उमडा श्रद्धा का सैलाब

Chittorgarh


मण्डफिया। जिले के आली गांव स्थित प्रख्यात शनि महाराज मन्दिर में रविवार को शनि जयंती के अवसर पर श्रद्धालुओं की भारी भीड उमड पडी।शनि जयन्ती व अमावस्या का योग मिल जाने से श्रद्धालुओं की भारी भीड रही। प्रात: से ही श्रद्धालु शनिमहाराज पहुंचे। श्रद्धालुओं ने भगवान शनि की प्रतिमा पर तेल व उडद का चढावा चढाया तथा पण्डितों के माध्यम से भगवान शनि के अभिषेक कराए। इसके साथ ही कई श्रद्धालुओं ने जूते मन्दिर के सामने छोडकर पनोती उतारी।शनि मन्दिर स्थित नौ ग्रह देवताओं के मन्दिर में भी पूजा-अर्चना की। कई श्रद्धालुओं ने चूरमा-बाटी की प्रसादी की।

कार्यकारिणी भंग
शनि महाराज मन्दिर प्रबंधकारिणी कमेटी शनिवार को भंग कर दी गई। अब कमेटी के चुनाव 2 जून को होंगे। शनि महाराज प्रबंध कार्यकारिणी कमेटी का पांच वर्ष का कार्यकाल 5 जून को पूरा हो रहा है। नए चुनाव के लिए शनिवार को प्रबंध कार्यकारिणी कमेटी की आखिरी बैठक आयोजित हुई। इस बैठक में वर्तमान कार्यकारिणी व साधारण सभा को भंग कर दिया है। अब नए चुनाव 2 जून को होंगे। यह जानकारी ट्रस्ट के वर्तमान अध्यक्ष नरेन्द्रपाल सिंह कांस्या ने दी।

सांवलियाजी में देर रात तक कतारें
कृष्णधाम भगवान सांवलिया सेठ के मन्दिर में मासिक मेले में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड पडा। रविवार तडके शुरू हुई श्रद्धालुओं की कतारें देर रात तक थम नहीं पाई। प्रात: 5 बजे मंगला आरती से दर्शनार्थियों की भीड उमड पडी। भगवान को सुगंधित इत्र का छिडकाव व फूलों का आकर्षक श्ृंगार कराया। ज्यों-ज्यों दिन चढता गया त्यों-त्यों श्रद्धालुओं की भीड बढती गई। राजभोग आरती से पूर्व प्रात: 10 बजे कतार मीरां सर्कल तक पहुंच गई। श्रद्धालु तेज धूप व उमस की परवाह किए बगैर अपनी दर्शन की बारी की प्रतीक्षा करते देखे गए। मन्दिर को जोडने वाली फोरलेन सडक पर तील धरने तक की जगह दिखाई नहीं दे रही थी। सीतामाता मेले से दर्शन करके लौट कर आने वाले अधिकांश श्रद्धालु सांवलियाजी आए। शाम को देवकी सदन धर्मशाला में भण्डारे की प्रसादी में हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

पार्किग व्यवस्था चरमराई
रविवार को दर्शन व्यवस्था से लेकर पार्किग व्यवस्था चरमरा गई, जबकि मन्दिर परिसर में श्रद्धालुओं के लिए छांव का प्रबंध नहीं किए जाने से श्रद्धालु खुले मे खडे रहे। सांवलियाजी मन्दिर मण्डल के पास लगभग चार सौ कर्मचारी है इनमें से सौ के लगभग सुरक्षाकर्मी होने के बावजूद भी 20-30 हजार श्रद्धालुओं के दर्शन एवं इनके वाहनों की पार्किग की सुचारू व्यवस्था कराने में असमर्थ रहे।

मन्दिर की यशोदा विहार धर्मशाला के सामने दुपहियां वाहनों की कतारे लग जानें व मन्दिर की कुई के पास अतिक्रमण हो जाने से रविवार को कई बार आवागमन बाधित रहा। लगभग 3 घंटे तक अव्यवस्था का आलम बना रहा। बाद में 10 बजे पुलिस चौकी के पुलिस कर्मियों ने यातायात को नियंत्रित किया।इधर, मीरां सर्कल पर निजी बस चालकों द्वारा अवैध बस स्टैण्ड कायम करने से वहां भी कई बार आवागमन अवरूद्ध हुआ। श्रद्धालुओं के लिए दो के बजाए एक ही कतार किए जाने से बहुत लम्बी लाइन लग गई। इससे धक्का-मुक्की भी हुई।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :