इमली वाले बावजी

सांवलिया सेठ मन्दिर प्रांगण के उत्तर - पश्चिम भाग में एक गोल चबूतरा निर्मित हें , जिसके केन्द्र में इमली का पेड़ लगा हुआ हें | वही दक्षिण की ओर मुंह किए लगभग 1x1 फीट की काले पत्थर की प्रतिमा प्रतिष्ठित हें | पीढी दर पीढी सेवा करते आए पुजारियों से ज्ञात हुआ हें की उन्हें ' इमली वाले बावजी ' के नाम से जाना जाता हें | उक्त मूर्ति की स्थापना प्रभु सांवलिया जी के साथ ही हुई थी | सदेव धार्मिक आयोजनों में मुख्य मन्दिर की पूजा - अर्चना से पूर्व अत्यन्त चमत्कारी ' इमली वाले बावजी ' का पूजन होता हें एवं पुजारी परिवार अपने - अपने क्रमानुसार (ओसरा ) सांवलिया सेठ के साथ - साथ इनकी भी तन मन से सेवा करते हें |

लेखक
(अमृत 'वाणी')

संवारा सेठ चालीसा पेज क्रमांक 59 से लिया गया हे |

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :