जलझूलनी पर निकलेंगे बैवाण


उदयपुर, २९ अग. (कासं)। जलझूलनी एकादशी सोमवार को श्रद्धा से मनाई जाएगी। इस अवसर पर प्रभुको बैवाण में विराजमान कर गंगा स्थान हेतु सरोवर नदी किनारे ले जाया जाएगा । इस अवसर पर खासकर गांवों में विशेष माहौल रहेगा। इधर कई श्रद्धालु इन दिनों चारभुजा (गढ़बोर) के लिए रवाना हो रहे है।
रेलमगरा नगर से देवझूलनी एकादशी पर प्रभु के अलौकिक दर्शनों को पाने व अपनी मनकामनाओं को पूर्ण करने के लिए कई युवा, बुजुर्ग तथा महिलाओं के जत्थे रवाना हुए। ये जत्थे सोमवार को प्रभु श्री चारभुजा नाथ व सांवलिया सेठ के अलौकिक श्रंगार के दर्शनों का लाभ लेंगे।
मावली : जल झूलनी एकादशी पर क्षेत्र के फतहपुरा गांव में शिवदल मेवाड़ द्वारा कई आयोजन किए जाएंगे । अध्यक्ष कन्हैयालाल डांगी ने बताया कि सोमवार को नगर में चारभुजा जी की विशाल शोभायात्रा निकाली जाएगी। शाम को विशाल भजन संध्या आयोजित की जाएगी। जिसमें आवरी माता के तथा क्षेत्रीय कलाकारों द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी।
ऋषभदेव के निज मंदिरों से राम रेवाडियों की भव्य शोभायात्रा निकाली जाएगी। श्री केशरियाजी मंदिर प्रबंधक लालसिंह ने बताया कि वैष्णव नवयुवक मण्डल के तत्वावधान में निकलने वाली मंदिर की मुख्य राम रेवाड़ी के साथ श्री राममंदिर नाहरगढ़, सत्यनारायण मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर, ज्वाला माता मंदिर के साथ कई समाजों एवं संगठनों की रेवाडियां सम्मिलित होगी। मुख्य रेवाडी के देवविमान के साथ आदिवासी अंचल के ग्रामीण भजन कीर्तन संगीत, नृत्य, लोक भजन की प्रस्तुतियां देंगे।
इस अवसर पर क्षेत्र में कई स्थानों पर गरबों तथा मटकी फोड़ कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। शोभायात्रा सायं कृष्णघाट पहुंचेगी जहां कुंवारिका नदी क ेतट पर सभी देव विमानों की विशेष पूजा जलमा पूजा होगी। मुख्य आरती देवस्थान विभाग के प्रभारी अधिकारी गणपत सिंह राठौड़ द्वारा की जाएगी। शोभायात्रा पुन: नाचते गाते देर रात्रि केशरियाजी के निज मंदिर में प्रवेश करेगी।
आमेट : जलझूलनी एकादशी पर भगवान चारभुजानाथ के दरबार में जाने वाले पदयात्रियों के जत्थों की संख्या लगातार बढ़ रही है। भीलवाड़ा के कोट, बोराणा, रायपुर, चान्दरास, तथा चित्तौड़ जिले के ग्रामों से बड़ी संख्या में पदयात्रियों के जत्थे आमेट से होकर जा रहे है।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :