मेले की सभी तैयारियां अंतिम चरण में

जयपुर, जागरण संवाद केंद्र : मेवाड़ के प्रसिद्ध कृष्णधाम मंडफिया स्थित भगवान श्रीकृष्ण की भव्य पीठ श्रीसांवलिया सेठ का त्रि-दिवसीय जलझूलनी एकादशी मेला 30 अगस्त से एक सितंबर तक आयोजित किया जाएगा। मेले की सभी आवश्यक तैयारियां अंतिम चरण में हैं। श्रीसांवलियाजी मंदिर मंडल के अध्यक्ष कन्हैया दास वैष्णव ने बताया कि इस मेले में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं के लिए हर प्रकार की सुविधा के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। यात्रियों की आवास व्यवस्था के लिए मंडफिया क्षेत्र के समस्त विद्यालयों, महाविद्यालय एवं धर्मशालाओं, विश्रान्ति गृहों में कमरों की व्यवस्था की गई है वहीं यात्रियों को शुद्घ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न स्थानों पर प्याऊ लगाई जा रही है तथा मन्दिर मंडल की सभी धर्मशालाओं में पानी की टंकियों की सफाई करवाई गई है। उन्होंने बताया कि अक्षरधाम की तर्ज पर बनने वाले श्रीसांवलिया सेठ के भव्य एवं विशाल मन्दिर के साथ-साथ यहां प्रति वर्ष बढ़ रही मेलार्थियों की संख्या को देखते हुए मंदिर परिसर के विस्तार, धर्मशाला के निर्माण एवं पर्याप्त वाहन पार्किग स्थल के लिए और अधिक भूमि की आवश्यकता है, जिसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

मंदिर मंडल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुरेंद्र माहेश्वरी ने बताया कि मेले की व्यवस्थाओं के लिए अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मेलार्थियों के आवागमन के लिए राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम को चितौड़गढ़ एवं उदयपुर से मंडफिया के लिए नियमित बसों के अलावा लगभग 25 बसें अतिरिक्त लगाने के निर्देश दिए गए हैं। माहेश्वरी ने बताया कि मेले में मुख्य रूप से पार्किग व्यवस्था पर जोर दिया गया है, जिसमें निजी बसों, रोडवेज बसों एवं हल्के वाहनों के लिए अलग-अलग पार्किग व्यवस्था की गई है।

भगवान सांवलिया सेठ के दर्शनार्थ आने वाले यात्रियों की भारी संख्या के मद्देनजर मंदिर परिसर में बेरीकेडिंग व्यवस्था कर पंक्तिबद्ध दर्शन कराने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि मेले के दौरान कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल एवं होम गार्ड के जवान तैनात किए जाएंगे।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :