सांवलिया जी का भव्य जलझूलनी एकादशी मेला ३० से

मेले के प्रमुख कार्यक्रम
३० अग. : शोभायात्रा, कवि सम्मेलन, भजन संध्या
३१ अग. : भव्य रथ यात्रा, नेहा-सोनू कक्कड़, फाल्गुनी ब्रह्मभट्ट तथा राजस्थानी ऑर्केस्ट्रा का रंगारंग कार्यक्रम
१ सित. : विकलांगों को ट्राई साइकिल वितरण, डायनेमिक इवेंट द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम
मण्डफिया, २७ अग. (प्रासं)। राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल भगवान श्री सांवलियाजी सेठ का विशाल त्रिदिवसीय जलझूलनी एकादशी मेला आगामी ३० अगस्त०९ से एक सितम्बर तक आयोजित होगा।
अतिरिक्त कलेक्टर (प्रशासन) एवं मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुरेन्द्र माहेश्वरी ने मण्डफिया स्थित सांवलियाजी गोकुल विश्रांति ग्रह में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को बताया कि मेले में प्रतिदिन लाखों श्रद्धालु एवं भक्तजन भगवान श्री सांवलियाजी सेठ के दर्शनों का लाभ उठायेंगे। मेले में अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं धार्मिक कार्यक्रम दर्शकों के मनोरंजन हेतु प्रस्तुत किये जायेंगे।

 

 
अतिरिक्त कलेक्टर माहेश्वरी ने बताया कि मेले के प्रथम दिन ३० अगस्त को भगवान श्री सांवलियाजी सेठ की भव्य शोभायात्रा के साथ मेले का श्रीगणेश होगा। इसी दिन रात्रि में रंग-बिरंगी आतिशबाजी एवं रात्रि को रेफरल चिकित्सालय प्रांगण में अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन आयोजित होगा जिसमें भारत के जाने माने कवि जानी वैरागी (धार), phool dor fastival (3) copyसुरेश बैरागी मंदशौर, श्वेता सरगम (दिल्ली), शालिनी सरगम(दिल्ली), अर्चना अंजुम (इन्दौर), पंडित नरेन्द्र मिश्र (चित्तौडग़ढ़), अशोक हंगामा (दिल्ली), गौरव शर्मा (मुम्बई), बलवन्तबलु (रिषभ देव), नरेन्द्र बंजारा द्वारा काव्य पाठ किया जायेगा। इसी दिन मंदिर के सामने मंच पर विनोद राठौड एण्ड पार्टी नीमच द्वारा भजन संध्या कार्यक्रम phool dor fastival (0) copyप्रस्तुत किया जायेगा। इसी दिन गोवर्धन बस स्टेण्ड मंच पर समृद्धि फिल्मस एवं टेलिविजन द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत होगा। माहेश्वरी ने phool dor fastival (1) copyबताया कि मुख्य मेला ३१ अगस्त एकादशी को आयोजित होगा जिसमें भगवान की भव्य रथ यात्रा निकलेगी। यह भव्य रथ यात्रा सरोवर पहुंचेगी जहां भगवान के विग्रह को स्नान एवं पूजा अर्चना के बाद रात्रि ८ बजे पुन: मंदिर प्रांगण पहुंचेगी। इसी दिन रात्रि ९ बजे रेफरल चिकित्सालय प्रांगण में पाश्र्व गायिका नेहा कक्कड़ एवं सोनू कक्कड़, अभिजीत घोषलों मुंबई द्वारा सांस्कृतिक रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया जायेगा। गोवर्धन बस स्टेण्ड परिसर में फाल्गुनी ब्रहम भट्ट एवं दल मुम्बई द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं इसके पश्चात इसी मंच पर न्यू राजस्थानी आर्केस्ट्रा द्वारा रंगारंग कार्यक्रम पेश होगा। इसी दिन मंदिर के सामने मंच पर राजेश वारले म्यूजिकल ग्रुप द्वारा भजन संध्या कार्यक्रम एवं इसके पश्चात इसी मंच पर अल्का म्युजिकल ग्रुप नीमच द्वारा भजन संध्या कार्यक्रम आयोजित होगा। मेले का समापन एक सितम्बर को होगा जिसमें विकलांगों क ो नि:शुल्क ट्राईसाइकिल वितरण की जायेगी एवं मंदिर के सामने मंच पर ट्विंटल एवं डायनेमिक इंवेट इन्दौर द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया जायेगा । इस मौके पर सांवलियाजी मंदिर बोर्ड चेयर मेन कन्हैयालाल वैष्णव एवं प्रशासनिक अधिकारी भगवान लाल चतुर्वेदी भी उपस्थित थे। वैष्णव ने बताया कि मेले मे यात्रियों की सुविधाओं के लिये पर्याप्त व्यवस्था की गई है।

जलझूलनी मेले की जोरदार तैयारियां

मण्डफिया । प्रमुख तीर्थ स्थल भगवान श्री सांवलियाजी सेठ की ओर से आयोजित होने वाले जलझूलनी मेले की तैयारियां जोर-शोर से जारी है सांवलिया जी मंदिर बोर्ड चेयर मेन कन्हैयालाल वैष्णव ने गोकुल विश्रांति ग्रह में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को बताया कि मेले के अवसर पर दर्शनाथियों के लिये स्थानीय धर्मशाला, स्कूलों एवं चिकारडा एवं भादसोडा चौराहे पर स्थित विश्रांति ग्रहों में आवास की व्यवस्था की गई है। वैष्णव ने बताया कि मेले में यात्रियों को शुद्ध पेयजल के लिए जगह-जगह वाटर कूलर एवं प्याउ लगाई गई है। इसी प्रकार आवागमन हेतू चित्तौडग़ढ़ एवं उदयपुर आगार को २५ अतिरिक्त बसें लगाने बाबत निर्देशित किया गया। वैष्णव ने बताया कि मेले में गन्दगी नहीं फेले इसके लिये जगह-जगह कचरा पात्र लगाये जाएगे। इसी प्रकार सफाई व्यवस्था के लिये टोलियां गठित की गई। जो मण्डफिया कस्बे में घूमकर साफ सफाई करेंगे। मेले में मुख्य रूप से जोर पार्किंग व्यवस्था पर दिया गया जिसमें निजी बसें, रोडवेज बसों एवं हल्के वाहनों हेतु अलग पार्किंग व्यवस्था की गई। मेले में यात्रियों को भरपेट भोजन मात्र १० रूपये में मिलेगा। मेले में २४ घण्टे मेडिकल टीम मय दवाईयों के साथ तैेनात रहेगी। मंदिर चेयरमेन कन्हैयालाल वैष्णव ने बताया कि इस भव्य एकादशी मेले में लगभग ५० लाख रूपये खर्च होने का अनुमान है।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :