जन्माष्टमी पर सजी झांकियां



चित्तौडग़ढ़, १४ अग. (प्रासं)। चित्तौडग़ढ़ नगर एवं जिले भर में शुक्रवार को जन्माष्टमी का पर्व हर्षोल्लासपूर्वक मनाया गया।
चित्तौडग़ढ़ के शहरी एवं उप नगरीय क्षेत्रों में स्थित विभिन्न मंदिरों एवं अन्य स्थानों पर श्रीकृष्ण के जीवन से संबंधित कई झांकिया सजाई गई एवं आकर्षक विधुत सजावट के साथ ही कुछ स्थानों पर फूलों से की गई सजावट देखते ही बन पा रही थी। नगर के उप नगरीय क्षेत्र चन्देरिया में स्थित संकट मोचन हनुमान मन्दिर में आकर्षक सजावट के साथ ही झांकियो ं का देखने के लिए नगरवासी उमड़ पड़े।
इसी तरह शहरी क्षेत्र में मुख्य सब्जी मंडी में रोगानी परिवार की ओर से गत वर्षे की तरह इस वर्ष भी आकर्षक स्वचलित झांकिया मध्यप्रदेश के कारीगरों द्वारा तैयार की गई। इन झांकियों को देखने के लिए सायं ६.३० बजे से ही लोगो के कतार में लगना शुरु हो गया। इस दौरान महिलाओं एवं पुरुषों के लिए अलग अलग बेरिकेङ्क्षटग की व्यवस्था भी की गई। यहां सजाई गई झांकियों में तुला दान, मोर के श्याम, अगासुर वध, महाकाली का विराट रुप आदि मुख्य रुप से शामिल थी। रात्रि करीब आठ बजे बाद लोगो की काफी अधिक भीड़ उमड़ने की वजह से पुलिस को काफी अधिक मशक्कत करनी पड़ी एवं इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गई।
इसी तरह मीरा मंच के समीप मून्दड़ा जी की बगीची में भी आकर्षक झांकिया सजाई गई। विशेष तौर पर फूलों की आकर्षक सजावट के बीच श्री कृष्ण को झूले में बिराजने की झांकी आकॢषत करने वाली रही। शहरी क्षेत्र में त्रिपोलिया हनुमान मन्दिर के साथ ही विवेकानन्द पार्क, हाथी कुण्ड स्थित श्रीनाथ जी की हवेली, मीठाराम जी का खेड़ा स्थित श्री सांवलिया सेठ मन्दिर, पावटा चौक स्थित बिछावट मन्दिर, शात्रीनगर में अधिवक्ता एल.एल. पोखरना के निवास के समीप, प्रतापनगर में सत्यनारायण मन्दिर, रेल्वे स्टेशन, सेंती के साथ ही अन्य स्थानों पर आकर्षक झांकिया सजाने के साथ ही भजन संध्या, महाआरती, प्रसाद वितरण आदि कार्यक्रम आयोजित किए गए, जहां कि देर रात्रि तक श्रद्धाह्नलओं का तांता लगा रहा।
श्री कालिका ज्ञान केन्द्र समिति द्वारा संचालित श्री कालिका ज्ञान केन्द्र माध्यमिक विद्यालय प्रतापनगर में विभिन्न कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। अद्र्ध रात्रि पश्चात जगह जगह कृष्ण जन्मोत्सव आयोजित प्रसाद का वितरण किया गया।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :