सांवलिया धाम में उमडी 'श्रद्धा'

21 अगस्त 2009, 23:18 hrs IST
मण्डफिया। प्रख्यात कृष्णधाम सांवलियाजी मंदिर के दो दिवसीय भादवी अमावस्या के मेले में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड पडा। जन्माष्टमी से अब तक करीब दस लाख से ज्यादा श्रद्धालु भगवान के दर्शन कर चुके हैं।

भादवी अमावस्या के मेले में चतुर्दशी से ही श्रद्धालुओं की भीड उमड पडी। बुधवार प्रात: पांच बजे से ही श्रद्धालुओं की कतारें लगना आरम्भ हो गई। प्रात: साढे ग्यारह बजे राजभोग आरती के बाद मंदिर मण्डल के मुख्य निष्पादन अधिकारी सुरेन्द्र माहेश्वरी, मंदिर मण्डल अध्यक्ष कन्हैयादास वैष्णव, मंदिर मण्डल के सदस्यों एवं कर्मचारियों की उपस्थिति में भण्डार खोला गया। रात करीब दस बजे तक नोटों की गिनती चलती रही।

गुरूवार को मंगला आरती में श्रद्धालुओं की भीड लग गई। प्रात: साढे दस बजे तक दर्शन के लिए मंदिर के बाहर दो-तीन किलोमीटर लम्बी श्रद्धालुओं की कतारें लग गई। यहां किसी भी धर्मशाला में श्रद्धालुओं को रूकने के लिए जगह नहीं मिली। यहां तक सांवलियाजी बस स्टैण्ड पर भी भीड लग गई। वाहनों की भी लम्बी-लम्बी कतारें लग गई तथा बसों को बस स्टैण्ड पर ही रोक लिया गया। मंदिर में दर्शन के लिए बेरिकेट्स लगाए हैं, जिससे श्रद्धालु दो कतारों में दर्शन के लिए प्रवेश कर रहे हैं।

लगाया जाप्ता, रोके वाहन
भादवी अमावस्या के मेले पर यहां पुलिस लाइन चित्तौडगढ तथा आसपास के थानों से अतिरिक्त पुलिसकर्मी तथा महिला कांस्टेबल तैनात किए है। यातायात व्यवस्था को देखते हुए एक एएसआई तथा कांस्टेबल को नियुक्त किया है, जो दुपहिया वाहनों को मंदिर सीमा से बाहर ही रोक रहे हैं।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :