सांवलियाजी का जलझूलनी मेला संपन्न

रंगारंग कार्यक्रम व भक्ति गीतों पर झूम उठे दर्शक
मण्डफिया, सित. भगवान श्री सांवलियाजी का जलझूलनी एकादशी का त्रिदिवसीय विशाल मेला हर्षोल्लास के साथ संपन्न हो गया।
मंदिर के सामने मंच पर समापन समारोह कपासन विधायक शंकरलाल बैरवा के मुख्य आतिथ्य में दीप प्रज्जवलन के साथ हुआ। इस अवसर पर सांवलियाजी मंदिर मण्डल चेयरमेन कन्हैयालाल वैष्णव कार्यपालक अधिकारी सुरेन्द्र माहेश्वरी एवं मण्डफिया-सरपंच हजारीदास वैष्णव ने अतिथियों का स्वागत किया।
इसके पश्चात रात १० बजे इसी मंच पर सांस्कृतिक कार्यक्रम विख्यात भजन गायक टंविकल एवं डायनेमिक इन्वेन्ट मूलचंदानी द्वारा प्रारंभ हुआ। जिसमें गायक महेश गोयल ने 'सिरड़ी वाले साईं बाबा आया हूं तेरे दर पे' सुनाया तो भक्त भाव विभोर हो गये गायिका प्रिया ने 'एक-राधा एक मीरा दोनों ने श्याम को चाहा'' सुनाकर दर्शकों का मनमोह लिया। इसके बाद युवतियों ने नृत्य में समां बांध दिया टी सीरीज की विख्यात गायिका रेखा राठौड़ 'भक्तों की भीड़ है अपार सांवरिया के मंदिर में 'सुना तो दर्शक झूमने लगे। गायक नरेन्द्र रूपाली ने फिल्मी गीत 'दिवाना दिल कहीं हो ना जाये, हमसे खता कोई हो जाये'' पर मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया। प्रसिद्ध गायिक ट्विटल ने 'जय हो मां जय हो मां, तू कितनी भक्तों की रखवाली है।
ट्विंकल स्वयं गाते हुए मंच के नीचे आकर मंदिर अध्यक्ष कन्हैयालाल वैष्णव, बोर्ड सदस्य सत्यनारायण शर्मा एवं विधायक शंकरलाल बैरवा एवं सांवलियाजी मंदिर के मुख्य पुजारी केशवदास वैष्णव, भाजपा युवा कार्यकर्ता भैरूलाल सोनी, रमेशचन्द्र पामेचा सहित कई भक्तों को नृत्य करने पर मजबूर कर दिया।
एक कलाकार ने सुदामा का रूप धरे प्रसिद्ध भजन गीत 'भटके-भटके जाने कहां से गरीब गया, अरे द्वारा पालो कन्हैया से कह दो सुदामा करीब गया' पर एक्टिंग की और एक कलाकार भगवान श्रीकृष्ण का रूप धरे सुदामा का चरण धोते-गले लगाते दृश्य में श्रोता इतने भाव विभोर हुए कि कईयों के आंसू छलक पड़े।
इसके पूर्व रात्रि १२.३० बजे मंदिर चेयरमेन कन्हैयालाल वैष्णव अतिरिक्त कलेक्टर सुरेन्द्र माहेश्वरी, विधायक शंकरलाल बैरवा, सरपंच हजारीदास वैष्णव बोर्ड सदस्य सत्यनाराय शर्मा एवं अन्य सदस्यों द्वारा विकलांगों को नि:शुल्क ट्राई सायकिलें वितरण की। समापन के मौके पर सरपंच हजारीदास वैष्णव, प्रशासनिक अधिकारी भगवानलाल चतुर्वेदी, सहायक लेखाकार किशनलाल शर्मा सहायक अभियन्ता डीसी व्यास, कनिष्ठ लेखाकार भवानी शंकर तिवारी, केशियर नन्द किशोर टेलर, हीरालाल गुर्जर एवं गांव के वरिष्ठ नागरिक भैरूलाल गुर्जर, आजाद हुसैन, मंदिर के पूर्व चेयरमेन कालुराम गुर्जर, भाजपा कार्यकर्ता भैरूलाल सोनी, रमेशचन्द्र पामेचा, प्रकाशचन्द पामेचा, लक्ष्मीलाल शर्मा, चतरसिंह सोलंकी, गौतम जैन सहित गांव के कई गणमान्य नागरिक एवं सैंकड़ों बाहर से आये श्रद्धालुजन एवं भारी पुलिस जाब्ता उपस्थित थे।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :