सांवलियाजी के दर्शनार्थ उमड़े श्रद्धालु

Monday, Dec 14th, 2009
कृष्णधाम सांवलियाजी मंदिर में दर्शनों के लिए रविवार को श्रद्धालुओं की भीड़ रहने से मेले जैसा माहौल रहा। श्रद्धालुओं की दिनभर आवाजाही रहने से बाजार में काफी चहल-पहल रही।

मंदिर के पुजारी नारायण दास ने बताया कि भगवान को गंगाजल से स्नान करवाकर नवीन वस्त्र धारण करवाए। गले में गुलाब की माला व सिर पर मोरपंख धारण करवाया गया। भगवान की छवि के दर्शनार्थ सुबह से ही श्रद्धालुओं के आने का क्रम शुरू हो गया, जो देर शाम तक जारी रहा। इस बीच दोपहर में शयन के बाद होने वाली उत्थापन झांकी के दर्शनार्थ बड़ी संख्या में श्रद्धालु एकत्रित हो जाने से लंबी कतारें लगी। जयकारों के साथ श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना कर

भोग लगाया।

भजन-कीर्तन व झांकियों ने मन मोहा : विजयनगर के खंडेलवाल परिवार की ओर से यशोदा विहार धर्मशाला चौक में हवन व भजन-कीर्तन हुए। इसमें मंच पर सांवलिया सेठ, खाटूश्याम, भालेनाथ, बजरंग बली, दुर्गामाता आदि देवी-देवताओं की झांकियां

सजाई गई।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :