कहते हे ना एक से भले दो

कहते हे ना एक से भले दो

सही हे एक वक्त था जब में अकेला श्री सांवलिया जी के ब्लॉग पर काम करता था किन्तु आज मुझे ये देख कर बहुत खुसी हुई की एक सज्जन भाई ने श्री सांवलिया सेठ पर एक नई और अत्याधुनिक वेब साईट बनाई जिस में श्री सांवलिया से सम्बंधित कई प्रकार की जानकारिया दी जा रही हें इस साईट पर जाने के लिए आप http://www.shreesanwaliyaji.com
यहाँ क्लिक करे

आशा हे भाई भविष्य में भी हम इसी प्रकार कई जानकारिय भक्त जनों को उपलब्ध करते रहेंगे |

भाई को बहुत बहुत बधाई |

शेखर कुमावत

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :