सांवलियाजी मंदिर मंडल के नए बोर्ड गठन की कवायद

Dainik Bhaskar : सांवलियाजी
बोर्ड में शामिल होने के लिए नेता व कार्यकर्ता प्रयासरत
कृष्णधाम सांवलियाजी मंदिर व्यवस्था संचालन करने वाले बोर्ड का कार्यकाल समाप्त होने के बाद नए बोर्ड के गठन की कवायद शुरू हो गई है। देवस्थान आयुक्त उदयपुर ने भी नए बोर्ड गठन के प्रस्ताव में जानकारी मुख्य कार्यपालक अधिकारी से मांगी है। वही कांग्रेस नेता व कार्यकर्ता बोर्ड में शामिल होने के लिए जोड़तोड़ में लगे हुए हैं।

मंदिर व्यवस्था के लिए भाजपा गठित बोर्ड का कार्यकाल गत 18 जनवरी को समाप्त होने के बाद नए बोर्ड की मांग कांग्रेस द्वारा की जा रही थी। देवस्थान आयुक्त उदयपुर ने भी नए बोर्ड के गठन की अधिसूचना के बाबत प्रस्ताव मंदिर मंडल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी से सूचना मांगी है। इधर बोर्ड अध्यक्ष व सदस्य बनने के दावेदार अपने स्तर पर जोड़तोड़ में लगे हैं। वर्तमान में पूर्व अध्यक्ष कालूराम गुर्जर, ममतेश शर्मा, मांगीलाल शर्मा, पूर्व ट्रस्टी भैरूलाल गुर्जर, पूर्व सदस्य मनोहरलाल जैन, अशोक शर्मा आदि अध्यक्ष पद की दावेदारी कर रहे हैं। कई पदाधिकारी जिले से लेकर जयपुर तक के कांग्रेस नेताओं से अपनी सदस्यता के लिए स्थानीय लोगों के साथ क्षेत्र के कांग्रेस कार्यकर्ता भी प्रयास कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि सांवलियाजी मंदिर व्यवस्थाओं को संचालित करने के लिए बोर्ड का मनोनयन राज्य सरकार द्वारा स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सिफारिश पर किया जाता है, जिसमें पार्टी कार्यकर्ताओं को मनोनीत किया जाता है।

उल्लेखनीय है कि तीन वर्ष के कार्यकाल वाले मौजूदा मंदिर मंडल बोर्ड ने अपना कार्यकाल गत १८ जनवरी को पूरा कर लिया है।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :