श्रद्घालुओं ने विष्णु महायज्ञ में दी आहुतियां

Dainik Bhaskar : सांवलियाजी

दर्शनों के लिए लगी रही भीड़

सांवलिया सेठ के दर्शनों के लिए सोमवार को दिनभर मंदिर परिसर में भीड़ रही। चित्तौडग़ढ़, भीलवाड़ा, कोटा, उदयपुर, मध्यप्रदेश, गुजरात समेत अन्य प्रदेशों के श्रद्घालुओं ने कतार में लग सांवलिया सेठ के दर्शन किए। श्रद्घालुओं ने मेला परिसर में लगी दुकानों से खरीददारी कर झूले, चकरी का भी जमकर लुत्फ उठाया।


श्रीसांवलियजी प्राकट्य स्थल मंदिर पर आयोजित कलश एवं ध्वजारोहण कार्यक्रम

भादसोड़ा & श्रीसांवलियाजी प्राकट्य स्थल मंदिर कमेटी के तत्वावधान में आयोजित पांच दिवसीय कलश
एवं ध्वजारोहण कार्यक्रम के तहत सोमवार को 51 जोड़ों न विष्णु महायज्ञ में आहुतियां दीं। यज्ञ का आयोजन दो पारियों में हुआ। यजमानों द्वारा सांवलिया सेठ के जयकारों से माहौल भक्तिमय हो गया।

महायज्ञ में सभी के मंगलमय जीवन की कामना करते हुए रुद्रसूक्त, विष्णुसहस्त्र, महामृत्युंजय मंत्र, कर्मकांड के साथ- साथ प्रभावी प्रेरणा यज्ञ आचार्य पं. विश्वनाथ अमेटा ने दी। आमेटा ने बताया कि आज का समय इतिहास पढऩे का नहीं गढऩे का है। हनुमान, कृष्ण के ग्वाल, बाल व अुर्जन जैसा श्रेय और सम्मान पाने का अवसर है। उन्होंने सांवलियाजी की महिमा घर- घर पहुंचाने एवं उपासना के माध्यम से मानव के चिंतन और चरित्र को ऊंचा उठाने का आह्वïान किया। मंदिर कमेटी के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्य सचिव मिठालाल मेहता भी यजमान बन कर हवन में आहुतियां दी। इनके साथ सरपंच पूरणमल पूर्बिया, मंदिर कमेटी के उपाध्यक्ष गंगाराम जाट समेत 51 जोड़ो ने आहुतियां दीं। इस मौके पर मंदिर कमेटी के उपाध्यक्ष बाबूलाल ओझा, कोषाध्यक्ष अशोक अग्रवाल, प्रचारमंत्री रतनलाल जाट, शंकरसिंह, राजेन्द्र सौमानी मौजूद थे।

राधाकृष्ण की झांकी सजाईभजन संध्या हुई

सांवलियाजी & कृष्णधाम सांवलियाजी मंदिर में सोमवार को गोवर्धन मथुरा से आए बृजकला संगम संस्थान के कलाकारों ने राधाकृष्ण की झांकी सजाई तथा भजनों की प्रस्तुतियां दी। गिर्राज बृज कला संगम के निदेशक मुकूट बिहारी कौशिक के निर्देशन में हरीश शुक्ला ने गणेश वंदना से किर्तन का शुभारंभ किया। इसके बाद राधा कृष्ण की झांकी सजाई गई तथा सांवलिया सेठ के भजनों की प्रस्तुतियां दी। इस मौके पर मंदिर मंडल के पूर्व अध्यक्ष कालूराम गुर्जर, पूर्व सरपंच हजारीदास वैष्णव, मदनलाल तिवारी, मंदिर मंडल के प्रशासनिक अधिकारी किशनलाल शर्मा, कार्यालय अधीक्षक भगवानलाल चतुर्वेदी समेत बड़ीसंख्या में श्रद्घालु मौजूद थे।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :