धूमधाम से हुआ सांवलिया सेठ का ब्याह

Bhaskar News Chittorgarh
फतहनगर, ११ दिस.(प्रासं)। मण्डफिया के सांवलिया सेठ का तुलसी संग विवाह शुक्रवार को धूमधाम से हुआ। विवाह की सारी रस्मों का इस अवसर पर निर्वहन किया गया तथा शाम के वक्त तुलसी को भावभीनी विदाई दी गई। विवाहोत्सव में बड़ी संख्या में नगरवासियों ने भाग लिया।
चित्तौडग़ढ़ जिले के मण्डफिया से सुबह साढ़े दस बजे सांवलिया सेठ की बारात यहां के सिद्ध हनुमान मंदिर में पहुंची जहां पर श्यामलाल सोनी, कालुलाल, रामेश्वरलाल सोनी तथा नगर के लोगों ने अगवानी की। सांवलिया सेठ के आते ही बैण्डबाजों पर भक्ति भजनों की सुमधुर स्वर लहरियों के बीच थिरकते भक्तों ने पुष्पवृष्टि की। दूल्हेा बने सांवलिया सेठ को मंदिर में ले जाया गया तथा सुसज्जित वेवाण में विराजित कर बारी-बारी से सबने सेवा अर्पित की। यहां बारात का अतिथि सत्कार किया गया। बारात में मण्डफिया के मुख्य पुजारी केशुदास तथा भक्तजन शामिल थे।
बारात की अगवानी के बाद बैण्डबाजों के साथ सांवलिया सेठ की नगर में बिंदोली निकाली गई। वेवाण में विराजे सांवलिया सेठ को रथ में विराजित किया गया। बिंदोली कृषि उपज मण्डी, रोड़वेज बस स्टेण्ड, सब्जी मण्डी, अस्पताल रोड़, मुख्य चौराहा,नया बाजार, पटेल स्टेडियम होते हुए जवाहर कॉलोंनी स्थित श्यामलाल सोनी के आवास पर पहुंची जहां पर विधिविधान से तोरण वंदन, पाणिग्रहण संस्कार आदि किया गया। जोड़े बैठे तथा वैदिक मन्त्रोच्चार के साथ ही कन्यादान की रस्म भी अदा की गई। कन्यादान आयोजक कुलथिया परिवार के सदस्यों ने किया। शाम को सांवलिया सेठ संग तुलसी को भावभिनी विदाई दी गई। इस नयनाभिराम दृश्य के सैंकड़ों श्रद्धालु साक्षी बने तथा भगवान के दर्शन का लाभ लिया।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :