सांवलियाजी में जलझूलनी एकादशी मेला ३० से

कवि सम्मेलन, भजन संध्या व रंगारंग कार्यक्रम होंगे
मण्डफिया़, २४ अग. (प्रासं)। राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल भगवान श्री सांवलिया सेठ का जल झूलनी एकादशी पर्व का त्रिदिवसीय विशाल मेला आगामी ३० अगस्त से एक सितम्बर तक आयोजित किया जा रहा है सांवलियाजी मंदिर मंडल के प्रशासनिक अधिकारी भगवानलाल चतुर्वेदी ने बताया कि
तीन दिवसीय इस मेले में अनेक रंगारंग कार्यक्रम के साथ कवि सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा। मेले के प्रथम दिन ३० अगस्त को भगवान श्री सांवलिया सेठ की विशाल शोभायात्रा के साथ मेले का श्री गणेश होगा। मेले में प्रथम दिन रात्रि में अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन आयोजित होगा, जिसमें देश के जाने माने कवि अपनी रचना प्रस्तुत करेंगे। इसी दिन आर्केस्ट्रा कार्यक्रम एंव भजन संध्या विभिन्न स्थानों पर आयोजित होंगे।
मुख्य मेला ३१ अगस्त एकादशी को आयोजित होगा, जिसमे दोपहर १२ बजे भगवान की रथ यात्रा निकलेगी जो मुख्य मार्गे से गुजरती हुई सरोवर पहुंचेगी, जहां भगवान श्री सांवलियाजी की छविगृह प्रतिमा का स्नान कर पुन: मन्दिर प्रांगण पहुंच, यहां रात्रि में जयपुर पूॢणमा फायर वक्र्स द्वारा रंग बिरंगी आतिशबाजी होगी। इसी दिन आर्केस्ट्रा कार्यक्रम एवं भजन संध्या में राजेश वारले म्यूजिकल उज्जैन एवं सोनाली ङ्क्षसह भाग लेंगी। मेले का समापन एक सितम्बर को विकलांगो को नि:शुल्क ट्राई साईकिलों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रसिद्ध भजन गायक टंविकल एवं डाईनोमिक इवेंट इन्दौर भाग लेंगे।
मेले की तैयारियों जोर शोर से चल रही है, इससे पूर्व ३१ अगस्त को विख्यात भजन गायक नेहा, सोनू कक्कड़ एवं फिल्मी गायक अभिजीत घौषाल द्वारा रेफरल चिकित्सालय प्रांगण में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

No comments:

ShareThis

copyright©amritwani.com

: जय श्री सांवलिया जी : : सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार चित्तोडगढ होगा। प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संचालकों का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। सम्प्रदाय विरोधी , अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी , मिथ्या , तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक मंडल को सूचित करें | : जय श्री सांवलिया जी :